ashmita, Author at Saavan's Posts

नारी की दशा बहोत ही विचित्र सी है

नारी की दशा बहोत ही विचित्र सी है है देवी पर क्यों अपवित्र सी है ? है हर जीवन का स्रोत… पर जीते जी स्वयं मृत सी है »

दिखावे के प्यार

दिखावे के प्यार दिखावे का खुला आसमां मिला जब भी उड़ना चाहा मुझको बस नीचे का रास्ता मिला »

कसम से हर जुबाँ से दर्द मिला

कसम से हर जुबाँ से दर्द मिला कभी नज़रों से वो दर्द मिला न जाने कब बदलेगा ये हालात नारी होने का हर दर्द मिला »

मै अपने साये में धूप लेकर चलती हूं

मै अपने साये में धूप लेकर चलती हूं तेरे लिये छाव फैलाये चलती हूं तू कभी मिल जाता है मुझे अगर तेरे पाव के नीचे हाथ बिछाये चलती हूं »

तन्हाई में तुम्हारा ख्याल जो आया

तन्हाई में तुम्हारा ख्याल जो आया दूर पहाड़ो पर फैली धुंध बन गया सर्दियों की खिली धूप बन तपा फूलो पर ओस की बूंद बन गया…… »

Let me

Let me take care of your life Let me feel pain of your heart let me hold you hand and take you away far from here to the fresh sunlight »

मुलाकात

आज मेरी खुद से मुलाकात हो गई चुप थी जमाने से, आज खुद से बात हो गई। »

बात

कोई बात दबी है जहन में मेरे कोई बात चले तो कुछ बात बने »

कितने जमाने आये और गुजर गये

कितने जमाने आये और गुजर गये मुहब्बत के जमाने का असर मगर अब तक है »

जिंदगी

जब हम साथ है तो फासलों का ज़िक्र क्यों करें डर के शागिर्द में जिंदगी बसर क्यों करे »

Page 1 of 3123