Arun, Author at Saavan's Posts

Chitta

»

NASHA

चल अाज सब कुछ भुला के एक मज़ा सा करते हैं, तफ़रीकें मिटा के दिल-ओ-दिमाग़ को एक रज़ा सा करते हैं, दुनिया की सुद्ध में बुद्ध खो बैठे हैं, चल आज खुद को खुदी का एक नशा सा करते हैं … आज पहले जैसा कुछ नहीं, कुछ अनोखा सा करते हैं, हाँ में हाँ मिला कर चलते रहे अब तक, आज हाँ को ना बता कर वादों से एक धोखा सा करते हैं, चल आज खुद को खुदी का एक नशा सा करते हैं … अलहदगी मिटा के दोनों को एक अहदा सा क... »

MAAF KARNA ASIFA

सिर्फ एक तसवीर है , एक चेहरा है जानता नहीं हूँ कि कौन थी वो , पर आँखों में नूर देख यकीन से कहता हूँ कि जो भी थी , जैसी भी थी अच्छी थी वो , गैरों के हाथ पकड़ साथ चल पड़ी रूह से पाक दिल से सच्ची थी वो , इन्सानियत में छुपी हैवानियत देख न पायी हाँ अभी अकल से कच्ची थी वो , लेकिन तुम तो सियाने थे , पढ़े -लिखे थे , मासूमियत ही देख लेते शैतानो ! आठ साल की नन्ही बच्ची थी वो । लेकिन गलती उसी की थी ग़ैर -हिन्दू ... »

HASRAT

मत पूछो कि क्या हसरत है मेरी , हसरतें जताऊँ यह ना फ़ितरत है मेरी , जताने से मिल जाये मुझे चाहत जो मेरी , खुदी को जानता हूँ यह ना किस्मत है मेरी। मत पूछो कि क्या हसरत है मेरी … To read full poem kindly visit the following link… http://www.alfaz4life.com/2017/08/hasrat.html?m=1 »