एक अरसे से उनसे नजर नहीं मिली
जमाना गुजर गया किसी को देखे हुए
-पन्ना

 

Download New Saavan App from Play Store

मातृ दिवस सावन काव्य प्रतियोगिता

2400+ Poets 5.3k Poems 10k Comments


कविता प्रकाशित करने के लिए यहां क्लिक करें |


Poetry Hub 

 

Latest Activity

  • हंसकर अपने दर्द छुपाने की कारिगरी मसहूर थी मेरी ।
    चाहकर भी कभी रो ना सकी आंखे सजबूर थी मेरी ।।

    सजती रही महेफिले बेशक ही अब औरो की शाम मे ।
    हां मगर ये भी तो सच है वो शमा कभी जरूर थी मेरी ।। […]

  • जब तक है जीवन तब तक इस की सेवा ही आधार रहे

    विष्णु का अतुल पुराण रहे नरसिंह के रक्षक वार रहे

    हे प्राणनाथ! हे त्रयंबकम! शिव शंभू के शिव सार रहे

    हम रहे कभी ना रहे मगर इसकी प्रभुता का पार रहे […]

  • बिछड़ा जो फिर तुमसे तनहा ही रह गया,
    ग़म-ए-हिज़्र मे अकेले रोता ही रह गया।

    मुसलसल तसव्वुर में बहे आँसू भी खून के
    शब् में तुझे याद करता, करता ही रह गया!

    मैंने शाम ही से बुझा दिए हैं सब चराग,
    शाम […]

  • साहब की हवाई सैर पर एक
    मतला और एक शेर देखे।

    कू-ए-वतन में उड़न तश्तरी मोड़िये ना,
    साहब विदेश घूमने की जिद छोड़िये ना!
    इंसाफ दिलाके आसिफा की रूह को फिर,
    अनशन स्वाति मालिवाल का तोड़िए ना!

    तारिक़ अज़ीम ‘तनहा’

  • Tariq Azeem Tanha‘s profile was updated 1 week ago

  • नमस्कार दोस्तों आप सब देख रहे हैं आज कल बच्चियों के साथ कुछ बहेशी दरिन्दे जो कर रहे हैं दो शब्द आज लिखने पर मजबूर हो गया

    ऐसे कुकर्म करते जरा भी शर्म क्या तुझे नहीं आई।
    उसे देख तुझे अपनी बेटी याद क्या […]

  • सोज़िशे-दयार से निकल जाना चाहता हूँ,
    हयात से अदल में बदल जाना चाहता हूँ!

    तन्हाई ए उफ़ुक़ पे मिजगां को साथ लेके,
    मेहरो-माह के साथ चल जाना चाहता हूँ!

    आतिशे-ए-गुज़रगाह-ए-चमन से हटकर,
    खुनकी-ए-बहार में बदल जा […]

  • मयस्सर कहाँ हैं सूरते-हमवार देखना,
    तमन्ना हैं दिल की बस एक बार देखना!

    किसी भी सूरत वो बख्शा ना जायेगा,
    गर्दन पे चलेगी हैवान के तलवार देखना!

    सज़ा ए मौत को जिनकी मुत्ताहिद हुए हैं हम
    आ जायेगी उनक […]

    • तेरे ख्याल में दिन रात एक है हमारे
      जुस्तुजु है ख्याल को हकीकत होते एक बार देखना

  • क्या था क़सूर मेरा?????
    (पीड़ित बेटी आसिफ़ा के सवाल)

    1.गहन गिरवन सघन वन में
    बहुत खुश अपने ही मन मे
    मूक पशु पक्षी के संग में
    था बसा परिवार मेरा…..
    पूछना में चाहती हु क्या था क़सूर मेरा ????? […]

  • क्या था क़सूर मेरा?????
    (पीड़ित बेटी आसिफ़ा के सवाल)

    1.गहन गिरवन सघन वन में
    बहुत खुश अपने ही मन मे
    मूक पशु पक्षी के संग में
    था बसा परिवार मेरा…..
    पूछना में चाहती हु क्या था क़सूर मेरा ????? […]

  • Sheetal Yadav changed their profile picture 1 week, 2 days ago

  • Load More

 

सर्वश्रेष्ठ हिन्दी कहानी प्रतियोगिताStorieo l