badi muddat se nahi likha mene koi lafz-e-ishq

vazah Kalam tut jana he ya uska ruth jana…

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

4 Comments

  1. Kirti - January 27, 2017, 11:08 pm

    nice

  2. Anirudh sethi - January 28, 2017, 7:36 am

    Kya baat he

  3. देव कुमार - January 28, 2017, 10:19 am

    Bahut Khoob

  4. Aman Chandra - February 2, 2017, 11:27 am

    thanx to all of you

Leave a Reply