ख्यालों में मेरे अब आती हो तुम ही,

हक मुझपे पूरा जताती हो तुम ही!

कैसे करूँ मैं अब तुमसे ये नफरत,

मेरे पे ही जाँ अब लुटाती हो तुम ही!!

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

2 Comments

  1. Dev Kumar - January 12, 2017, 1:20 pm

    Wah Wahhhh Nitesh Ji

Leave a Reply