अर्सों के बाद मुलाकात जरुरी है समझता हूँ ,

मेरे बिन तेरी हस्ती अधूरी है समझता हूँ !

इन्तजार में जो सुख चुके हैं तेरे आँख केआँसू ,

उनके न निकलने की मज़बूरी मैं समझता हूँ !!
Previous Poem
Next Poem

सर्वश्रेष्ठ हिन्दी कहानी प्रतियोगिता


समयसीमा: 24 फ़रवरी (सन्ध्या 6 बजे)

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

2 Comments

  1. Profile photo of Dev Kumar

    Dev Kumar - January 12, 2017, 1:20 pm

    So Nice Nitesh Ji

Leave a Reply