ख़त

मैंने सारे जवाब जो तुझे ख़त किये है.
दिल के फरमान काग़ज़ी किये है.
बहोत उदास तेरी चाहतो का शोहबर इन दिनो.
हमनें अपनी फरमाईश जो कियें है।
शौहदा अवध लिखे भी कैसे शहर बदनाम किये है।

अवधेश कुमार राय “अवध”😢

Previous Poem
Next Poem

सर्वश्रेष्ठ हिन्दी कहानी प्रतियोगिता


समयसीमा: 24 फ़रवरी (सन्ध्या 6 बजे)

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

1 Comment

  1. Profile photo of Anirudh sethi

    Anirudh sethi - February 4, 2018, 11:34 pm

    nice lines

Leave a Reply