है अभी तूफान गर मेरी सफलता के पथ पर

है अभी तूफान गर मेरी सफलता के पथ पर
पर अब नहीं रुक सकता मैं जो हो चुका हूँ अग्रसर
हूँ पथिक ऐसा जो नहीं रुक सकता ऐसे हारकर
अंधेरी रात है तो क्या हुआ सुबह भी होगी मगर
माँ बाप को है गर्व मेरे होने के एहसास पर
मुझसे कहीं ज्यादा भरोसा है उन्हें मेरी जीत पर
कर नहीं सकता हूँ टुकड़े उनकी आशाओं का मैं
अब करना तूफानों से दो-दो हाथ है डटकर

~राम शुक्ला
कटरा बाज़ार, गोंडा उत्तर प्रदेश

Previous Poem
Next Poem
Spread the love

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

By Ram

2 Comments

  1. ashmita - April 11, 2018, 7:09 am

    nice

Leave a Reply