हुअा वहुत अत्याचार

हुआ बहुत अत्याचार —–
अब हर घर से भगत सिह , सुखदेव निकलना चाहिए।
रोज जो चेहरे बदलते है,लिबाजो कि तरह अब उसको फाँसी पर चढ़ाना चाहिए।।
भगत, सुखदेव तुझ पर बहुत हुए अत्याचार,
अब उस गद्देदार को खुले आसमान मे सिर–धर से अलग कर देना चाहिए,
मेरे मालिक,मेरे देश पर बहुत हो रहे अत्याचार।
अब हर घर से भगत,सुखदेव निकलाना चाहिए।।

ज्योति
मो न०9123155481

Previous Poem
Next Poem
Spread the love

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

5 Comments

  1. Mithilesh Rai - May 20, 2018, 4:58 am

    लाजवाब

  2. Anshita Sahu - May 20, 2018, 8:17 am

    nice

  3. राही अंजाना - June 20, 2018, 11:46 pm

    वाह

Leave a Reply