हाइकु

डूबती नाव
अंबर सागर में
दूज का चाँद।

पिघल-रहा
लावा दिल अंदर
आँखें क्रेटर ।

सिसकी हवा
उड़ चल रे पंछी
नीड़ पराया ।

यादों के मोती
चली पिरोती सुई
हार किसे दूँ।

आसमान ने
डाले तारों के हार
घरों के गले।

चौथ का चाँद
सौत की हंसुली-सा
खुभा दिल में।

गया निगल
एक पे एक गोटी
कैरम बोर्ड।

– Atul


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 
यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|
 

Related Posts

अगर आह्वान करूं चांद का…

हमेशा मुस्कुराते रहो

शेरो – शायरी

चांद और सूरज हमारा है

1 Comment

  1. Profile photo of Sridhar

    Sridhar - July 16, 2016, 3:06 am

    Bahut khoob

Leave a Reply