हसासो का दरिया

लफ्ज ही है जो कतराते है कागज पर उतरने से
वरना अहसासो का दरिया तो साथ लिये फिरते है

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

4 Comments

  1. Mithilesh Rai - April 8, 2018, 9:13 am

    बहुत-बहुत खूब

  2. Surinder Kumar - April 7, 2018, 7:30 pm

    nice…

  3. Anirudh sethi - April 6, 2018, 1:51 pm

    bahut khoob

Leave a Reply