हसरत-ऐ-दिल……..

हसरत-ऐ-दिल हमारी बस इतनी थी लोगो
के वो अपने कूचे से एक बार तो बाहर आते

रोते, बिलखते और गम से कराहते
और उनकी आँखों से आंसूं बेशुमार आते………….!!    (d k)

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 
यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|
 
सावन का लक्ष्य है, कविता के लिए एक मंच स्थापित करना, जिस पर कविता का प्रचार व प्रसार किया जा सके और मानवता के संदेश को जन-जन तक पहुंचाया जा सके| यदि आप सावन की इस उद्देश्य में मदद करना चाहते है तो नीचे दिए विज्ञापन पर क्लिक करके हमारी आर्थिक मदद करें|

 

Leave a Reply