हद हो गई ।

हद हो गई ।

आज तो हद हो गई—-
उसकी आँख मेरी आँख से मिली—–
उसके आँख से आँसु निकल पड़ी ।
आज विश्वास हुआ —
उसकी फितरत मे वेवाफाई नही थी।।
शिर्फ मजबुरी थी—
ज्योति

Previous Poem
Next Poem
Spread the love

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

5 Comments

  1. देव कुमार - June 14, 2018, 11:56 am

    Nice

  2. शकुन सक्सेना - June 14, 2018, 3:33 pm

    य्ाह

  3. देव कुमार - June 14, 2018, 8:48 pm

    Wlcm

Leave a Reply