सूखे नहीं थे धार आंशु के, पड़ गए खेतों मे फिर सूखे

सूखे नहीं थे धार आंशु के
पड़ गए खेतों मे फिर सूखे 

सूखे नहीं थे धार आंशु के
पड़ गए खेतों मे फिर सूखे 

सूखे नहीं थे अरमान
आश के
फिर क्यू रूठा भगवान खवाब से

करता हूँ तुमसे निवेदन
इतना भी सितम न कर
रूठी है खाने की थाली
प्यालों मे भी कम है पानी
तू तो है सबका भाग्यभिधाता
मैं भी हूँ किसी का अन्नदाता

ले ले चाहे जो परीक्षा
आशा कभी न हारेंगे
सींच आशुओं से धरती को
फिर से धान उगाएँगे
सूखे भले हो खेत ये मेरे
हारा नहीं है होसला ये
मेरा

सूखे नहीं थे धार आंशु के

पड़ गए खेतों मे फिर सूखे
———-
-दिनेश कुमार-

Previous Poem
Next Poem

सर्वश्रेष्ठ हिन्दी कहानी प्रतियोगिता


समयसीमा: 24 फ़रवरी (सन्ध्या 6 बजे)

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

8 Comments

  1. Kumar Bunty - March 22, 2017, 10:43 pm

    BEHATREEN KOSHISH

  2. Profile photo of Sridhar

    Sridhar - March 6, 2017, 7:36 pm

    nice

  3. Profile photo of Ritu Soni

    Ritu Soni - March 6, 2017, 10:43 am

    Nice

  4. Profile photo of सीमा राठी

    सीमा राठी - March 6, 2017, 9:07 am

    अच्छा प्रयास दिनेशजी

Leave a Reply