सूकून

बच्चे झगड़ रहे थे मोहल्ले के जाने किस बात पर,

सूकून इस बात का था न मंदिर का ज़िक्र था न मस्जिद का |

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

बाल श्रमिक

क्यूँ

समस्या

3 Comments

  1. Annu Mittal - June 9, 2016, 8:44 am

    Bahut badiya

  2. देव कुमार - June 9, 2016, 11:25 am

    Bahut Khob

  3. Anoop - June 9, 2016, 11:47 am

    Very very nice

Leave a Reply