सुकून

जब न था इश्क
दर्दे-ए-दिल न था!
जब से उनसे उलझी नज़रें
बेकली सी  हो गयी!!

*********

                    इब्दिता-ए-इश्क में..
              उनके उठाए नाज़-ओ-खम!
                     अब ना जाने अपनी फ़ितरत…
                      बेवफा सी हो गयी!!

                     *********

चन्द लम्हे साथ था वो
फिर हो गया नज़रों से दूर!
उनके दिल से अपने दिल की
गुफ्तगू तो हो गयी!!

*********
                 वो नज़र से दूर है
                        पर है तो दिल के आस पास!
                        रूह को तसकीन है
                        पर दिल को मुश्किल हो गयी!!

                        *********

deovrat – 12.02.2018 (c)

Previous Poem
Next Poem
Spread the love

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

By DV

3 Comments

  1. Neha - March 6, 2018, 1:21 pm

    amazing lines..each one is special

    • DV - March 6, 2018, 4:09 pm

      Thanks neha.. your comments are valuable to me

  2. राही अंजाना - July 31, 2018, 11:17 pm

    Waah

Leave a Reply