साज़

टूट गई साँसों की माला जैसे कोई साज,
सुनी नहीं किसी ने मेरे दिल की वो आवाज़,
बन्द हुए जब अंत समय में आँखों के मेरे काज,
उड़ गए मेरे पंख पखेरू जैसे कोई बाज़।।
राही (अंजाना)

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

2 Comments

  1. ज्योति कुमार - September 10, 2018, 11:18 pm

    Waah kya baat hai
    Raahi g

Leave a Reply