साहिर

साहिर तेरी आँखों का जो मुझपर चल गया,
खोटा सिक्का था मैं मगर फिर भी चल गया,

ज़ुबाँ होकर भी लोग कुछ कह न सके तुझसे,
और मैं ख़ामोश होकर भी तेरे साथ चल गया।।

समन्दर गहरा था बेशक मगर डुबो न सका,
के तेरे इश्क ऐ दरिया में जो ‘राही’ चल गया,

दारु के नशे में जब सम्भला न गया मुझसे,
छोड़ कर चप्पल मैं घर पैदल ही चल गया।।
राही (अंजाना)

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Leave a Reply