साहिर

साहिर

साहिर तेरी आँखों का जो मुझपर चल गया,
खोटा सिक्का था मैं मगर फिर भी चल गया,

ज़ुबाँ होकर भी लोग कुछ कह न सके तुझसे,
और मैं ख़ामोश होकर भी तेरे साथ चल गया।।

समन्दर गहरा था बेशक मगर डुबो न सका,
के तेरे इश्क ऐ दरिया में जो ‘राही’ चल गया,

दारु के नशे में जब सम्भला न गया मुझसे,
छोड़ कर चप्पल मैं घर पैदल ही चल गया।।
राही (अंजाना)

Previous Poem
Next Poem
Spread the love

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Leave a Reply