सबको रस्ता दिखा रहा हूँ मैं

गजल

सबको रस्ता दिखा रहा हूं मैं |
साथ ‘ मिट्टी उड़ा रहा हूं मैं |

इन दरख्तों में अब भी जिंदा हूं |
अपना साया मिटा रहा हूं मैं |

मुझको लाकर लिटा गए जबसे |
कब्रे – रौनक बढा रहा हूं मैं |

इश्क करना ही सीख लो मुझसे |
इश्क करना सिखा रहा हूं मैं |

आइने में नजर न आयेंगे |
ऐसे चेहरे बना रहा हूं मैं |

लोग मुझे बत्तमीज कहतें हैं |
खुद जो खुद का बता रहा हूं मैं |

वो रुलाती रही मुझे हरदम |
कह जिसे ‘ बेवफा रहा हूं मैं |

चाहता हूं लिपट के फिर रो लूं |
माँ तेरे घर से जा रहा हूं मैं |

आग अरविन्द मय्यसर लेना |
अपनी बस्ती जला रहा हूं मैं |
}-❥ कुमार अरविन्द ( गोंडा )

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

3 Comments

  1. सीमा राठी - April 2, 2018, 7:29 pm

    बहुत खूब

  2. Neetika sarsar - April 2, 2018, 12:42 pm

    bhut khoob

  3. Priya Bharadwaj - April 1, 2018, 9:33 pm

    nice

Leave a Reply