शोक ए हिज़्र करूं या जश्न ए वस्ल करूं

शोक ए हिज़्र करूं या जश्न ए वस्ल करूं

shok e hizr

Previous Poem
Next Poem
Spread the love

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Panna.....Ek Khayal...Pathraya Sa!

Related Posts

फ़िर बतलाओ जश्न मनाऊँ मैं कैसी आजादी का

आज़ादी का जश्न

आज़ादी का जश्न

मैं रोज नशा करता हूँ… गम रोज गलत होता है…

Leave a Reply