शैलेन्द्र जीवन से एक दिन शिला खण्ड जब टकराया

शैलेन्द्र जीवन से एक दिन शिला खण्ड जब टकराया,

पिता की छाया हटी तो जैसे संकट मुझपर गहराया,

संस्कारों का दम्ब था मुझमें सब धीरे-धीरे ठहराया,

मेरे कन्धों पर परिवार का जिम्मा जैसे बढ़ आया,

बचपन से ही कवि ह्रदय ने मेरे दिल को धड़काया,

बस इसी विधा में लगकर मैंने अपने मन को बहलाया,

बहुत रहा पल-पल उलझा इन सम्बंधों की उलझन में,

फिर किसी तरह से शैलेन्द्र जीवन को अपने मैंने सुलझाया।।

राही (अंजाना)

Previous Poem
Next Poem
Spread the love

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

3 Comments

  1. देव कुमार - June 20, 2018, 12:31 am

    Asm

  2. देव कुमार - June 20, 2018, 1:53 pm

    Welcome

Leave a Reply