शिकवा करूँ क्या अपने उस महेरबान से

शिकवा करूँ क्या अपने उस महेरबान से,

आशिक़ हूँ जनाब कोई फरयादी नही

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 
यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|
 
सावन का लक्ष्य है, कविता के लिए एक मंच स्थापित करना, जिस पर कविता का प्रचार व प्रसार किया जा सके और मानवता के संदेश को जन-जन तक पहुंचाया जा सके| यदि आप सावन की इस उद्देश्य में मदद करना चाहते है तो नीचे दिए विज्ञापन पर क्लिक करके हमारी आर्थिक मदद करें|

 

Related Posts

5 Comments

  1. MaN(मन) - October 12, 2016, 8:53 pm

    Gjjb @A.G

  2. Profile photo of Anirudh sethi

    Anirudh sethi - October 12, 2016, 3:31 pm

    nice

  3. Anjali Gupta - October 12, 2016, 2:56 pm

    लगता है खुदा अब फरियाद नहीं सुनता
    नहीं तो अब तक सारे शिकवे मिट चुके होते|

Leave a Reply