अभियान नवगीत “

अभियान नवगीत ”
————————
बांधे सर पे मस्त पगड़िया
राह कठिन हो,चलना साथी
दुराचार ख़तम करने अब
उतार चलो काँधे की गाँती
आन ,बान और शान हमारे
अच्छे- सच्चे हैं वनवासी
दिलों – दिलों को दर्द बताने
महफिल – महफिल खड़ी उदासी
आँखें भर – भर उठती हैं
मां जब अपनी कहर सुनाती
बांधे सर पे …………….
जोते – बोये ,कोड़े -सींचे
धरती में अपना खून -पसीना
फसलें हरी भरी लहरायें
हर्षित हुआ कृषक का सीना
सभी घरों में पेट को भरते
बेटे ,पोते, नतिनी -नाती
बांधे सर पे………………
घर- आँगन का नन्हा बच्चा
नाचे ,झूमे और इठलाये
वहीं ,किसान का बेटा ,सीमा पर
हंसते – हंसते गोली खाये
संबंधों की स्मृतियों संग
आँखें खुली -खुली रह जातीं
बांधे सर पे मस्त पगड़िया
कठिन राह पे चलना साथी |
– सुखमंगल सिंह

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

4 Comments

  1. राही अंजाना - March 6, 2019, 9:57 am

    वाह

    • Sukhmangal - March 6, 2019, 7:09 pm

      हार्दिक अभिनंदन ,आभार आदरणीय राही अंजाना जी

  2. देवेश साखरे 'देव' - March 6, 2019, 4:32 pm

    सुंदर रचना

    • Sukhmangal - March 6, 2019, 7:13 pm

      आदरणीय देवेश साखरे ‘देव ‘ जी धन्यवाद ! आपकी टिप्पड़ी मेरी रचना ” अभियान नवगीत ” को उचाई देने में सहायक सिद्ध हो ! शुक्रिया

Leave a Reply