वो कहते है, हम कहते है………

वो कहते है हमारे निगाह को यूँ देखा न करो
हम कहते है के तुम अपनी निगाह से हमें यूँ देखा न करो

वो कहते है बहुत शर्म-ओ-हय्या आती है हमको
हम कहते है की तुम अपनी निगाह को यूँ उठाया न करो

वो कहते है आज फिर मौसम थोड़ा मदहोश हो चला है
हम कहते है की तुम अपनी निगाह को यूँ झुकाया न करो

वो कहते है आज फिर काली घटा छाने लगी है
हम कहते है की तुम अपनी निगाह में सुरमा लगाया न करो

वो कहते है क्यों सब हमारे हुस्न के दीवाने है
हम कहते है की तुम अपनी निगाह से सबको सताया न करो

वो कहते है हमारे निगाह को यूँ देखा न करो
हम कहते है के तुम अपनी निगाह से हमें यूँ देखा न करो ……………!!

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 
यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|
 

Leave a Reply