ये मतलबी दुनिया ।

ये मतलबी दुनिया ।

ये मतलबी दुनिया मुझे,
अपना नही लगती।
लोग कहते है,मै मगरूर हूँ, “” घमण्डी हूँ।।
जब कर दिया अपनो ने घायल,
जब चिल्लाये दुनिया के समाने करवा दिया जब गलती का एहसास,
तब लोग कहने लगे मै पागल हूँ,,
ऐ खुदा हार गया हूँ तेरी इस नाटक रूपी मंच से,
मेरी आँख हर वक्त ऩई जिन्दगी की भीख माँगती,
और ये आपकी मतलबी दुनिया मे पल रहे लोग—-
कहते मै”” जिंदा”” हूँ ।।
अपनो से हारी हूई एक खामोश “”हमलवार “”हूँ
और लोग कहते की मै “”मतलबी”‘ हूँ////
ये मतलबी दुनिया बहुत रूलया है ये खुदा, बहुत शिल्ला दिया ।
ले–ले अब अपने चरणों मे ,
हुआ हूँ अपनो से घायल ——
अब ये दुनिया अपनी नही लगती।।

ज्योति
Mob–9123155481

Previous Poem
Next Poem
Spread the love

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

6 Comments

  1. राही अंजाना - June 29, 2018, 2:05 pm

    वाह

  2. ज्योति कुमार - June 29, 2018, 4:29 pm

    धन्यवाद

  3. bhoomipatelvineeta - July 1, 2018, 10:51 am

    Nice one sir

  4. Neha - July 1, 2018, 10:51 am

    Osm

Leave a Reply