याद आता ।

जब भी तेरा चेहरा याद आता
हिचकियाँ उठ जाता;
अभी उसकी वेवाफाई से उभरे नही यारो।
अब ना जाने हिचकियाँ कौन सा पैगाम दे जाता।
. जब भी उसका चेहरा नजर आता;
हिचकियाँ उठ जाता ।
ज्योति
mob 9123155481

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

3 Comments

  1. Mithilesh Rai - June 17, 2018, 10:45 pm

    Good

  2. राही अंजाना - July 11, 2018, 10:28 pm

    वाह

Leave a Reply