मै मूरख

मै मूरख

पैदा कर मोहे माँ मेरी ने दुनियाँ देयी दिखाई,

मैं मूरख मुझको माँ की न ममता समझि में आई,

दूर सफर में चलत मोहे जब कछु न दिया दिखाई,

तब बचपन की एक शाम अनोखी आँखन में भर आई,

हाथ नहीं थे भूख मेरी पर माँ ने देयी मिटाई,

याद मोहे भी एक दिन माँ को मैने थी रोटी खिलाई।।

राही (अंजाना)

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Leave a Reply