मैं अकेला ही चलूँगा

मैं अकेला ही चलूँगा ।

शीश पर तलवार मेरे,
पाँव में अंगार मेरे,
या काटूँ या फिर जलूँगा ।
मैं अकेला ही चलूँगा ।।

तुम न मेरा साथ देना,
हाथ में मत हाथ देना,
अब सहारा भी न लूँगा ।
मैं अकेला ही चलूँगा ।।

दीन दिखलाना नहीं है,
हाथ फैलाना नहीं है,
सब अभावों में पलूँगा ।
मैं अकेला ही चलूँगा ।।

वेदना दो मैं सहूँगा,
“हर्ष है”, दुख में कहूँगा,
इस तरह तुमको छलूँगा ।
मैं अकेला ही चलूँगा ।।

घाव अपने कर गए हैं
भाव मन के मर गए हैं
बन गया पत्थर, गलूँगा ?
मैं अकेला ही चलूँगा ।।

लड़ सकूँ तूफान से मैं,
भिड़ सकूँ चट्टान से मैं,
वज्र के जैसा ढलूँगा ।
मैं अकेला ही चलूँगा ।।

मैं गया जग छोड़कर यदि,
स्नेह तुमसे तोड़कर यदि,
अत्यधिक ‘सौरभ’ खलूँगा ।
मैं अकेला ही चलूँगा ।।

  1. – सुरेश कुमार ‘सौरभ’

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 
यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|
 

Related Posts

4 Comments

  1. Profile photo of Dev Kumar

    Dev Kumar - January 19, 2017, 11:11 am

    Asm Poetry

  2. Mamta Rajshree - January 19, 2017, 10:30 am

    very nice

  3. सुरेश कुमार - January 19, 2017, 10:14 am

    धन्यवाद जी

  4. Akanksha Malhotra - January 19, 2017, 9:53 am

    बेहतरीन जनाब…बहुत ही खूबसूरत कविता

Leave a Reply