मेरी भोली आत्म कथा

सुनकर क्या तुम भला करोगे मेरी भोली आत्म कथा ?
अभी समय भी नहीं , थकी सोई है मेरी मौन व्यथा

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

खालिस बेमेल है जिंदगी मेरी

ऐसी है मेरी हिन्दी

मेरी कुट्टी तुमसे कान्हा

मेरी कुट्टी तुमसे कान्हा

मेरी हार …

3 Comments

  1. Anoop - June 8, 2016, 7:23 am

    बहुत अच्छा

  2. देव कुमार - June 8, 2016, 10:40 am

    nice

  3. Ishita Khanna - June 8, 2016, 10:56 pm

    bahut badiya megha

Leave a Reply