मेरा समर्पण

मेरी ताक़त है
मेरा समर्पण
असीम अनंत ताक़त
पावन प्रणय की
तुम्हारे प्रति मेरी अभिव्यक्ति है
मेरा समर्पण
राधा और श्याम की तरह
अहिल्या के राम की तरह
मेरा विश्वास है
मीरा का श्वास है
शबरी के बेर की मिठास है
आलौकिक प्रणय की प्यास है
निर्मल सौम्य दर्पण
प्रिय मेरा समर्पण

Previous Poem
Next Poem
Spread the love

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Related Posts

गाँव मेरा

मन मेरा कह रहा यह बार-बार

कविता

कविता

मेरा भारत मा

5 Comments

  1. Raj - June 14, 2016, 5:09 pm

    Superb

  2. Santosh Bhivani - June 14, 2016, 9:41 pm

    Behtareen

  3. SUBHANGI AGGRWAL - June 14, 2016, 11:58 pm

    waah

  4. Piyush - June 15, 2016, 1:03 am

    Bahot badiya…

  5. देव कुमार - June 15, 2016, 3:00 pm

    Very Nice

Leave a Reply