मुख पर हँसी और दिल में दर्द लिए बैठे हैं

मुख पर हँसी और दिल में दर्द लिए बैठे हैं,
कुछ लोग इसी तरह हमें गुमराह किये बैठे हैं,

रहते हैं साथ मगर खुद से दूर किये बैठे हैं,
कुछ लोग जलकर भी रौशनी किये बैठे हैं।।

राही (अंजाना)

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

7 Comments

  1. Neelam Tyagi - August 9, 2018, 3:00 pm

    nice 🙂

  2. ज्योति कुमार - August 9, 2018, 8:09 pm

    Wash sir

  3. ज्योति कुमार - August 9, 2018, 8:10 pm

    Waah

  4. Panna - August 10, 2018, 8:34 pm

    nice

Leave a Reply