मुखौटा

सादर नमन ‘सावन’
२/२/२०१८
शीर्षक- ‘मुखौटा’
———————————————–
चहरे पर चहरे का खेल है,
सूरत सीरत से बेमेल है,
कोई हमको नहीं भाता,
किसी को हम नहीं भाते,
जाहिर सी बात है साहेब,
मुखौटे बदलने के हुनर,
हमको नहीं आते,

एक दिन ज़िन्दगी ने हमसे ही पूछ लिया,
क्या तुझे जिंदगी जीने के हुनर नहीं आते??

दुनिया संगदिल, जेब तंग,
बिलों की अदायगी से खाली है,
पर देखिये जनाब हमने किस तरह,
अपनी मुस्कान संभाली है,

हम मर मिट गए उन पर खुदा,
उन्होंने अपनी हंसी,
सदा कफस में संभाली है,
नकाब ही नकाब हैं,
असलियत अब सदाकत से खाली है,

हम हो जाएंगे फ़ना,
के हमें ईमानदारी की बड़ी बीमारी है,
हमारे सपनों के संसार पर,
दुनियादारी की हकीकत बहोत भारी है ।
..मनीषा नेमा..

Previous Poem
Next Poem
Spread the love

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

3 Comments

  1. Sakshi - February 3, 2018, 2:28 pm

    Bhut hi khub didi💕🙏😘

  2. Devraj - April 18, 2018, 10:54 am

    Perfectly true

  3. राही अंजाना - July 31, 2018, 11:52 pm

    Waah

Leave a Reply