मुखौटा

इक मुखौटा है जिसे लगा कर रखता हूं
जमाने से खुद को छुपा कर रखता हूं

दुनिया को सच सुनने की आदत नहीं
सच्चाई को दिल में दबा कर रखता हूै

बस रोना आता है जमाने की सूरत देखकर
मगर झूठी हंसी चेहरे से सटा कर रखता हूं

आयेगी कभी तो जिंदगी लौट के मेरे पास
इंतजार में पलके बिछा कर रखता हूं

आज इक नया मुखौटा लगा कर आया हूं
मैं कई सारे मुखौटा बना कर रखता हूं

Previous Poem
Next Poem
Spread the love

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Panna.....Ek Khayal...Pathraya Sa!

5 Comments

  1. Mohit Sharma - February 5, 2018, 2:21 pm

    Nice

  2. राही अंजाना - July 31, 2018, 11:53 pm

    Waah

  3. Drug-drug interactions - August 14, 2018, 4:33 am

    … [Trackback]

    […] Read More here|Read More|Find More Infos here|Here you can find 25989 additional Infos|Infos to that Topic: saavan.in/मुखौटा-2/ […]

  4. Caco-2 absorption studies - August 14, 2018, 4:12 pm

    … [Trackback]

    […] Find More on|Find More|Read More Infos here|Here you will find 59771 additional Infos|Infos on that Topic: saavan.in/मुखौटा-2/ […]

  5. UK Chat Rooms - August 15, 2018, 9:13 pm

    … [Trackback]

    […] Find More on|Find More|Read More Infos here|There you will find 81398 additional Infos|Infos on that Topic: saavan.in/मुखौटा-2/ […]

Leave a Reply