मुक्तक

मैं अपनी तमन्नाओं पर नकाब रखता हूँ।
मैं करवटों में चाहत की किताब रखता हूँ।
जब भी क़रीब होती हैं यादें ज़िन्दग़ी की-
मैं दर्द तन्हाई का बेहिसाब रखता हूँ।

मुक्तककार- #मिथिलेश_राय

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Lives in Varanasi, India

3 Comments

  1. राही अंजाना - July 19, 2018, 11:21 pm

    वाह सर

  2. Antariksha Saha - July 20, 2018, 12:08 am

    waah

  3. Neha - July 20, 2018, 8:57 pm

    Bhut khub

Leave a Reply