मुक्तक

हर शख्स जमाने में बदल जाता है!
वक्त की तस्वीरों में ढल जाता है!
उम्मीद मंजिलों की होती है मगर,
गमों की आग से ख्वाब जल जाता है!

मुक्तककार- #मिथिलेश_राय

Previous Poem
Next Poem

सर्वश्रेष्ठ हिन्दी कहानी प्रतियोगिता


समयसीमा: 24 फ़रवरी (सन्ध्या 6 बजे)

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Profile photo of Mithilesh Rai
Lives in Varanasi, India

2 Comments

  1. Profile photo of ashmita

    ashmita - February 9, 2018, 12:34 am

    bahut khoob sir

  2. Profile photo of Mohit Sharma

    Mohit Sharma - February 5, 2018, 9:03 pm

    Nice

Leave a Reply