मुक्तक

मत करो तुम कोशिश जब वो आसान हो!
खोज लो उजाले जब कभी वीरान हो!
चाँद खींच लेना प्यार से आगोश में,
राहे–जिन्दगी न तेरी सूनसान हो!

मुक्तककार- #मिथिलेश_राय
(#मात्रा_भार_22)

Previous Poem
Next Poem
Spread the love

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Lives in Varanasi, India

1 Comment

  1. Lucky Nimesh - January 26, 2018, 11:13 am

    बहतरीन जी मेरी रचना वतन पर भी कमेन्ट करें जो प्रतियोगिता में है

Leave a Reply