मुक्तक

जो यही सजा है मेरे गुनाह की
तो यही सही , लेकिन
सुनवाई का एक मौका तो दे !
(निसार)

Previous Poem
Next Poem
Spread the love

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

4 Comments

  1. Lucky - May 19, 2017, 7:51 pm

    Nice

  2. Vipul - May 20, 2017, 12:21 pm

    उम्दा

Leave a Reply