मुक्तक 1

मोहब्बत के सवालों से मैं अक्सर अब मुकर जाता ,

कहीं बातो ही बातों में मैं कुछ कहकर ठहर जाता.. 

कि तेरा नाम भूले से जबां तक आ गया ग़र तो,

तू बदनाम हो जाये न इससे मैं सिहर जाता …

    …atr
Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Hi everyone. This is Abhishek from Varanasi.

Leave a Reply