“माँ”

“माँ”

कितनी बार धुप मे खुन को जलाई तुने “माँ” मेरी लिए चंद रोटियाँ लाने मे।
कितनी बार तुने खुशी बेच ली “माँ” तुने मुझे सुलाने मे।।
कितनी बार दुसरे से लड़ गई
” माँ ” मुझे बस के सीट पर बैठाने मे,
कितनी बार अपनी सोना– चाँदी बेची “माँ” मुझे रोजगार दिलाने मे।
कभी खुशी कभी आँसु बेची माँ मुझे घर से बाहर भेजने मे।
तब पर भी ये मतलबी दुनिया तुझे क्यो छोड़ देते है, “माँ “बुढ़े हालतो मे।।
तब पर बद्दुआ नही शब्जी बेच कर देती माँ ।।

माँ तेरे हाथो कि कमाल अब भी याद है जिस दिन आपका हाथ सिर पर जाता कब्बडी मे दुसरे को पटक कर आती मै।।
माँ जैसा दुनिया मे कोई दर नही।।

ज्योति
मो न०9123155481

Previous Poem
Next Poem
Spread the love

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

4 Comments

  1. Salman - May 13, 2018, 9:22 am

    Waah

  2. ashmita - May 13, 2018, 10:47 am

    nice

  3. Mithilesh Rai - May 13, 2018, 11:47 am

    बहुत खूब

  4. राही अंजाना - May 16, 2018, 8:41 pm

    Badhiya

Leave a Reply