ममता

एक युवती जब माँ बनती है,
ममता के धागों से बच्चे का भविष्य बुनती है,
ज़ज्बात रंग -बिरंगे उसके,
बच्चे के रंग में ढलते हैं,
दिल के तारों से हो झंकृत,
लोरी की हीं गूंज निकलती,
माँ अल्फाज़ में जैसे हो,
दुनियां उसकी सिमटती चलती ,
फिर क्या, नयनों में झिलमील सपने,
आँचल में अमृत ले चलती ,
पग -पग कांटे चुनती रहती,
राहों की सारी बाधाएं,
दुआओं से हरती चलती,
हो ममता के वशीभूत बहुत,
वो जननी बन जीवन जनती है,
एक युवती जब माँ बनती है,
ममता के धागों से बच्चे का भविष्य बुनती है।।

Previous Poem
Next Poem
Spread the love

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

7 Comments

  1. Yatti - May 10, 2018, 8:57 pm

    beautiful poem.

  2. e-Khaliyan - May 11, 2018, 2:27 pm

    really nice, heart touching poem

  3. Balram - May 11, 2018, 2:28 pm

    bahut hi badiya kavita, full of emotions, mom is all above always.

  4. Kiran - May 11, 2018, 2:30 pm

    no words, just superb, nice peom mam

  5. Ritu Soni - May 11, 2018, 10:34 pm

    thanks dear

  6. Ritu Soni - May 13, 2018, 8:04 pm

    thanks a lot Mithilesh ji

Leave a Reply