मधुर जिंदगी

सभी मित्रों का
आत्माभिवादन
मीठे स्वरों में , मधुर जिंदगी मिल जाती है।
स्वरों की वसंती बहार में , जिंदगी खिल जाती है।।
दुख- दर्दों की लू -लपटों में जो झुलस जाएँ,
स्वरों की चिकित्सा उन सभी पर , ठंडक का लेप लगाती है।

प्यारे मित्रो ,
सपरिवार सहर्ष स्वरमयी सवेरे की
गुनगनाती मंगलकामनाएं स्वीकार करें।
आपका हर पल मंगलमय हो।

आपका अपना मित्र
जानकी प्रसाद विवश

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Leave a Reply