भेद खोल दिया

**भेद खोल दिया”**
^^^^^^^^^^^^^

भेद
पायल ने
दिल का
खोल दिया ,

घुघरुओं ने
भी क्या क्या
बोल .दिया ।

बेखुदी
बेसुधी तन मन की,
सारी
लाँघ गई ,

प्यार ने
जिंदगी को ,
प्यारा सा ,
माहौल दिया ।

जानकी प्रसाद विवश

Previous Poem
Next Poem
Spread the love

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

1 Comment

  1. राही अंजाना - July 31, 2018, 10:39 pm

    Waah

Leave a Reply