भारत हो खुशहाल

न ही उठानी है तलवार
न ही उठाना है हथियार
उठानी है बस हाथ में झाड़ू
जिससे भारत हो खुशहाल

न ही थूकना दीवारों पर
न कूड़ा फेंकना इधर उधर
कूड़ेदान का उपयोग खुद करके
दूसरों को भी कहो हर बार

देख विदेश की सुंदरता को
चमक जाती है आँखे तुम्हारी
क्यों नही हाथ बढ़ाते अपना
स्वच्छ भारत के अभियान में आप

देख गन्दगी करते सब छी छी
क्यों नही सुधर सकते हम आप
फेके खुद भी कूड़ा कचरे में
दूसरों को भी टोकें आप

हर घर में शौचालय बनवाओ
और उसका उपयोग कराओ
न ही इधर उधर तुम जाओ
शौचालय को उपयोग में लाओ

जहाँ भी जाओ स्वच्छता फैलाओ
स्वच्छता संबंधित ज्ञान फैलाओ
स्वच्छ रहेंगे तंदरुस्त रहेंगे
दिल दिमाग भी स्वस्थ ही पाओ

जितना स्वच्छ भारत होगा
उतनी ही होंगी बीमारी कम
बजट भी आपका सम्भला होगा
स्वच्छ भारत के अभियान से आज

इन्हीं कुछ छोटे छोटे कर्मों से
देश को हम सब स्वच्छ बनाएं
सारे जहाँ से अच्छा
हिंदुस्तान अपना कहलवाएं।।

Previous Poem
Next Poem
Spread the love

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

By Neha

18 Comments

  1. राही अंजाना - March 10, 2018, 9:21 pm

    बढ़िया

  2. Neha - March 10, 2018, 10:14 pm

    nice…amazing poem

  3. Yogi Nishad - March 11, 2018, 6:12 am

    वाहहहहह लाजवाब

  4. Priya Gupta - March 11, 2018, 8:53 am

    nice poem neha..keep it up

  5. Anuj - March 11, 2018, 1:18 pm

    Nice

  6. Budh - March 11, 2018, 1:20 pm

    गुड

  7. Abhinav - March 11, 2018, 2:41 pm

    Aap accha likh rhe hen. Badhai.

  8. Aman - March 11, 2018, 4:22 pm

    Superb

  9. Praveen - March 11, 2018, 4:33 pm

    Nice one

  10. Aman - March 11, 2018, 6:41 pm

    Bdiya didi

  11. Nitesh Chaurasia - March 12, 2018, 9:14 pm

    Wow so nice 🙂

  12. Shruti - March 12, 2018, 10:15 pm

    Waah

  13. Mohd Arshad - March 13, 2018, 2:45 pm

    Nice

  14. Mohd - March 13, 2018, 2:51 pm

    Nice

  15. Raja - March 15, 2018, 1:48 pm

    वाह

  16. Madhyam - March 15, 2018, 1:51 pm

    Nicely written

Leave a Reply