बैठी है

बैठी है

देखकर जिसको जुड़ जाते हैं हाँथ अक्सर,
आज वही फैला कर दोनों हाँथ बैठी है,
झुकाकर निकलते हैं हम जिसके आगे सर अपना,
आज वही सरेबाजार सर झुकाकर बैठी है,
टूटने नहीं देती है जो कभी नींद हमारी,
आज भूल कर सभी ख्वाब वो नींद उड़ा कर बैठी है,
बचाकर हर नज़र से जो हमे छिपाती रही उम्र भर,
आज सफ़र ऐ सहर से वही नज़र मिलाकर बैठी है॥
राही (अंजाना)


लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 
यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|
 

Related Posts

इलज़ाम

सरेआम रक्खे हैं।

जवाब माँगता है

मेरी आँखों में

Leave a Reply