बर्दाश्त नहीं होता

तुम्हारे जाने का दर्द क्यों ना हो ए ख़ुशी,

हमसे तो दुखो के जाने का दर्द भी –

बर्दाश्त नहीं होता .

तुम्हारी चुप्पी सहन कैसे हो ए दोस्त,

हमसे तो दुश्मनों का चुप रहना भी-

बर्दाश्त नहीं होता .

तुम्हे जलन थी हमसे,

तुम्हारे जलने का दर्द क्यों ना हो ए महजबीं,

हमसे तो रात के चिराग का जलना भी –

बर्दाश्त नहीं होता .

 

 

 

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 
यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|
 

2 Comments

  1. Profile photo of Panna

    Panna - November 19, 2016, 8:20 pm

    bahut khoob

  2. Profile photo of Aman Chandra

    Aman Chandra - November 19, 2016, 1:01 pm

    nice

Leave a Reply