फितरत

इंसान की भी गजब फितरत है,
रिश्ते जुडे़ तो है दिल से…
और विश्वास धागों पर करता है ।
~ सचिन सनसनवाल

Previous Poem
Next Poem
Spread the love

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

अब जितने भी अल्फाज है , मेरी कलम ही मेरे साथ है |

5 Comments

  1. Mithilesh Rai - May 23, 2018, 6:02 am

    बहुत खूब

  2. ashmita - May 23, 2018, 9:31 am

    nice

  3. SACHIN SANSANWAL - May 23, 2018, 10:46 am

    Thanks

  4. Neha - May 23, 2018, 9:27 pm

    Very nice

  5. SACHIN SANSANWAL - May 26, 2018, 7:52 am

    Thanks everyone

Leave a Reply