फिजा

कुछ लिखूंगा तो तुम बुरा मानगो.
हमारी मोहब्बत पर रार ठानगो.
अब यही रहा अंजाम -ए- इश्क मेरा.
मेरी जज्बातो को जब्त कर हुश्न का इकबाल कर.
यह मोहब्बत नहीं आसान इसका सम्मान कर.

#अवध🐦

Previous Poem
Next Poem
Spread the love

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

2 Comments

  1. सीमा राठी - May 14, 2017, 9:25 pm

    Nice

Leave a Reply