प्राण से ज्यादा , मित्र हो प्यारे

प्राण से ज्यादा, मित्र हो प्यारे,
इस. नश्वर संसार में ।
तीर्थ राज संगम स्थित है ,
प्रिय मित्रों के प्यार में ।

व्यर्थ सभी तीर्थटन होते ,
बिना मित्रता-तीरथ के ।
सत्कर्मों के फल मैं मिलते ,
भले मित्र उपहार में ।

जानकी प्रसाद विवश

प्यारे न्यारे मित्रो,
पावन मित्रतामय फिज़ा में
सपरिवारसहर्ष
प्यार-पगी हार्दिक मंगलकामनाएँ
मन से स्वीकार करें ।

आपका अपना मित्र
जानकी प्रसाद विवश

Previous Poem
Next Poem
Spread the love

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Leave a Reply