प्यार के गीत

रोज प्यार के गीत गुनगुनाए हर कोई मन ,
मुसीबतों को ,सबक सिखाए हर कोई मन।
नाच ले ,झूम ले मस्ती भरे , मधुर तरानों पर,
खुशियों की बाँहों में ,झूल जाए हर कोई मन ।

^^ जानकी प्रसाद विवश^^

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

1 Comment

  1. राही अंजाना - July 31, 2018, 10:50 pm

    Wah

Leave a Reply