प्यादा

मैं प्यादा हूँ मुझे प्यादा ही रहने दो,
यूँ हाथी और घोड़ों से न भिड़ाओ तुम,
मैं तो शतरंज का खिलाड़ी हूँ दोस्त,
मुझे सांप सीढ़ी में न उलझाओ तुम।।
राही (अंजाना)

Previous Poem
Next Poem

लगातार अपडेट रहने के लिए सावन से फ़ेसबुक, ट्विटर, इन्स्टाग्राम, पिन्टरेस्ट पर जुड़े| 

यदि आपको सावन पर किसी भी प्रकार की समस्या आती है तो हमें हमारे फ़ेसबुक पेज पर सूचित करें|

Leave a Reply